डिप्रेशन[Depression ]

1.डिप्रेशन क्या होता है ? [ What is depression ?]

डिप्रेशन एक मनोदशा विकार है जो उदासी और दिलचस्पी की लगातार हानि का कारण बनता है। इसे प्रमुख अवसादग्रस्तता विकार [ Depressive disorder ] या नैदानिक ​​अवसाद [ Clinical depression ] भी कहा जाता है, यह प्रभावित करता है कि आप कैसा महसूस करते हैं, सोचते हैं और व्यवहार करते हैं और विभिन्न प्रकार की भावनात्मक और शारीरिक समस्याएं पैदा कर सकते हैं।

2.कितने प्रकार के डिप्रेशन होते  है ? [ How many types of depression ? ] –

  • नैदानिक ​​अवसाद / प्रमुख उदासी [  Clinical depression / Major Depression ] – एक समय में एक बार उदास महसूस करना सामान्य है, लेकिन अगर आप ज्यादातर समय उदास रहते हैं और यह आपके दैनिक जीवन को प्रभावित करता है, तो आपको प्रमुख उदासी / नैदानिक ​​अवसाद ( Clinical depression / Major Depression )  हो सकता है। यह एक ऐसी स्थिति है जिसे आप दवा के साथ सामान्य कर सकते हैं और एक चिकित्सक से बात कर सकते हैं और अपनी जीवन शैली में बदलाव कर सकते हैं।
  • लगातार अवसादग्रस्तता विकार [ Persistent Depressive Disorder ] – यदि आपको डिप्रेशन है जो 2 साल या उससे अधिक समय तक रहता है, तो इसे लगातार अवसादग्रस्तता ( Persistent Depressive Disorder ) विकार कहा जाता है।
  • दोध्रुवी विकार [ Bipolar Disorder ] – दोध्रुवी विकार ( Bipolar Disorder) में मनोदशा ख़राब  होती  हैं जो उच्च ऊर्जा के चरम सीमा को  निम्न करती है  दोध्रुवी विकार (  Bipolar Disorder ) में मनोदशा बदलती रहती है वियक्ति अक्सर उदार रहता है और खुद को अकेला महसूस करता है ।
  • मौसमी उत्तेजित विकार [ Seasonal Affective Disorder ( SAD ) ]मौसमी उत्तेजित विकार ( Seasonal Affective Disorder ) प्रमुख अवसाद ( Major Depression ) की अवधि है, जो ज्यादातर सर्दियों के महीनों के दौरान होता है, जब दिन छोटे होते हैं और आपको  कम धूप मिलती है। इसके इलाज़ के लिए चिकित्सक व्यक्ति को लाइट थेरिपी ( Light therepy ) देते है।  जिसमे व्यक्ति  को प्रतिदिन 15 – 20 मिनट के लिए रौशनी में बैठना होता है।
  • साइकोटिक डिप्रेशन [ Psychotic Depression ] – ऐसी चीजें देखना या सुनना जो वहां नहीं हैं, गलत विश्वास, यह मानना ​​कि दूसरे आपको नुकसान पहुँचाने की कोशिश कर रहे हैं इसको साइकोटिक डिप्रेशन ( Psychotic Depression ) कहते है।
  • पेरिपार्टम (प्रसवोत्तर) अवसाद [ Peripartum (Postpartum) Depression ] – जिन महिलाओं को प्रसव के बाद के हफ्तों और महीनों में प्रमुख अवसाद (Depression ) होता है, उनमें पेरिपार्टम डिप्रेशन ( Peripartum Depression ) हो सकता है।
  • माहवारी से पहले बेचैनी [ Premenstrual Dysphoric Disorder ( PMDD ) ] – माहवारी से पहले बेचैनी (Premenstrual Dysphoric Disorder ) में मनुष्य की मनोदशा में बदलाव, चिड़चिड़ापन, अधिक चिंतित होना, ध्यान केंद्रित करने में परेशानी, थकान, भूख या नींद की आदतों में बदलाव होता है ।  
  • परिस्थितिजन्य अवसाद [ Situational Depression ] – जब आपको अपने जीवन में तनावपूर्ण घटना को प्रबंधित करने में परेशानी हो रही हो, जैसे कि आपके परिवार में मृत्यु, तलाक या नौकरी खोना।  इसे  परिस्थितिजन्य अवसाद  ( Situational Depression ) कहते है।
  • अनियमित डिप्रेशन [ Atypical Depression ] – अनियमित डिप्रेशन ( Atypical Depression ) में मनुष्य को भूख में वृद्धि, सामान्य से अधिक नींद आना, अपनी बाहों और पैरों में भारीपन महसूस होना,आलोचना के प्रति संवेदनशील जैसी चीज़े होती है।

3.डिप्रेशन के क्या लक्षण होते है ? ( What are the symptoms of depression ? )

  • खुशी न मिलना ( no joy )
  • वजन में कमी या बढ़ोतरी ( Weight loss or increase )
  • दिन के दौरान नींद आने या नींद न आने की परेशानी ( Problems of falling asleep or sleep during the day )
  • बिना बात के बेचैनी होना  ( Be restless without talking )
  • बहुत सुस्त महसूस करना  ( Feeling very dull )
  • शारीरिक या मानसिक रूप से धीमा लगना ( Feeling physically or mentally slow )
  • बिना कार्य करे थका महसूस करना  ( Feeling tired without working )
  • ध्यान केंद्रित करने या निर्णय लेने में परेशानी होना ( Having trouble concentrating or making decisions )
  • आत्महत्या के विचार आना ( Thoughts of suicide )
  • आशाहीन लगना ( Feeling hopeless )
  • खुद पर कम आत्म सम्मान ( Low self esteem on himself )
  • ऐसी चीजें देखना या सुनना जो वहां नहीं हैं ( See or hear things that are not there )
  • गलत तरीके से यह मानना ​​कि दूसरे आपको नुकसान पहुँचाने की कोशिश कर रहे हैं ( Wrongly believing that others are trying to harm you )
  • चिड़चिड़ापन होना ( Be irritable )
  • ज्यादा चिंता होना ( Worry too much )
  • अकेला पन लगना ( feel lonely )

4.डिप्रेशन कैसे शुरू होता हैं ? [ How do depression start ? ]

*मनुष्य में डिप्रेशन आम है पर ज्यादा तर यह कम समय के लिए होता है और अस्थायी होता है पर अगर मनुष्य लगातार डिप्रेशन में है तो यह चिंता का विषय है।*

 मनुष्य जब तनावपूर्ण स्थिति में होता है और खुद को अलग थलग कर लेता है फिर उस पर बार बार विचार करता है चुकी वो एक तनावपूर्ण स्थिति के बारे में सोचता है तो खुद को भी तनाव की स्थिति में दाल लेता है, अलग थलग होने के कारण मनुष्य इस विषय में बात भी नहीं कर पता और अंदर ही अंदर भारीपन महसूस करने लगता है। और यही डिप्रेशन का कारण बनता है।

में आपको निचे एक बुक की लिंक दे दूंगा यहाँ से आप यह खरीद सकते है और यह आपको काफी मद्त करेगी डिप्रेशन से निकलने में।

[I will give you the link of a book below, you can buy it from here and it will help you a lot in getting out of depression.]

5.डिप्रेशन  का सबसे बड़ा कारण क्या है? [ What is the biggest cause of depression? ]

5.डिप्रेशन मनुष्य के मानशिक स्थिति पर निर्भर होता है।

तनाव की  स्थिति में मनुष्य का दिमाग क्या प्रतिक्रिया करता है डिप्रेशन उसपर निर्भर करता है यदि मनुष्य तनाव नहीं सह पाता और खुद को  अलग-थलग कर लेता है और मनुष्य अपना मन विचलित कर लेता है तो यही प्रमुख कारण बनता है मनुष्य के डिप्रेशन की स्थिति का।

  • डिप्रेस्शन को कैसे बचे ? [ How to prevent depression ? ]
  • तनाव को संभालने और अपने आत्मसम्मान को बेहतर बनाने के तरीके खोजें।
  • पर्याप्त नींद लें, अच्छी तरह से खाएं, और नियमित रूप से व्यायाम करें।
  • जब मुश्किल हो जाए तो परिवार और दोस्तों से बात करे ।
  • यदि आपको सही नहीं लगता है तो नियमित रूप से मेडिकल चेकअप करवाएं।
  • यदि आपको लगता है कि आप उदास हैं तो परिवार या दोस्तों के साथ समय बिताये ।
  • अपनी उपचार योजना के साथ बने रहे।
  • शराब और मनोरंजक दवाओं से बचें। ऐसा लग सकता है कि ये आपको बेहतर महसूस कराते हैं। लेकिन वे वास्तव में आपके डिप्रेशन का इलाज कठिन बना सकते हैं।
  • ज्यादा से ज्यादा परिवार और दोस्तों के साथ समय बिताएं।
  • जिस दिन आप अच्छा महसूस नहीं कर रहे हों, उस दिन जीवन के बड़े फैसले न करें।
  • अपने चिकित्सक या चिकित्सक से दवा के बारे में बात करें जो डिप्रेशन को वापस आने से रोक सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *